Osho World Online Hindi Magazine :: April 2012
www.oshoworld.com
 
गतिविधियाँ

द्वारका, गुजरात

28 जनवरी से 1 फरवरी पांच दिवसीय मौन सत्र का एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम हुआ। शिविर में धम्मपद पर ओशो द्वारा दिए गए प्रवचन हुए जिसकी गहराइयों में सभी मित्र डूबते गये। ध्यान में 35 साधकों का अनुभव अविस्मरणीय रहा। मा ध्यान आभा ने इस मौन सत्र का कुशल संचालन किया।

-स्वामी ध्यान संदेश

भुज, कच्छ



कीर्तन ध्यान के साथ 2 फरवरी को ओशो ध्यान कुटीर का शुभारंभ किया गया। यह नव-निर्मित केंद्र पूरे दिन ध्यान के लिए खुला रहता है। यहां ओशो-पुस्तकों के साथ-साथ ऑडियो-प्रवचन श्रवण के लिए उपलब्ध है। नये-नये लोग ओशो से संलग्न हो सकें ऐसा प्रयास केंद्र के माध्यम से अनवरत जारी है।

-स्वामी धर्म अद्वय

घाटकोपर, मुंबई

ओशो आनंद अभियान द्वारा 5 फरवरी को एक दिवसीय ध्यानोत्सव आयोजित किया गया। मौज-मस्ती के माहौल में 70 मित्रों की सहभागिता रही। स्वामी आनंद सागर एवं मा मनोरमा ने उत्सव का संचालन किया।

-स्वामी विट्ठल

ओशो साइलेंस वैली, पंजाब



5 फरवरी को एक दिवसीय ध्यान शिविर का आयोजन किया गया। स्वामी ओम गोविंद के साथ पंजाब के अनेक शहरों से 30 प्रेमियों का आगमन हुआ। पूरे दिन सभी ने ध्यान के प्रयोगों का आनंद लिया।

-मा आनंद सुजाता

जहानपुर, मध्य प्रदेश

ओशो मौलश्री कम्यून में 5 से 7 फरवरी ‘हू इज़ इन’ मेडिटेशन ग्रुप चला। मा ध्यान तन्मया के संचालन में तीन दिन तक इंटेंस व मौन ध्यान के साथ 11 संन्यासियों ने अपने भीतर खोज की यात्रा की।

-भूमिका

देवताल, जबलपुर

ओशो अमृतधाम में 11 से 17 फरवरी स्वदर्शन साधना शिविर का आयोजन किया गया। भारत के विभिन्न राज्यों से आये अनेक साधक मित्रों ने शिविर में भाग लिया। ध्यान और मौन के प्रयोगों से गुजरकर सभी ने स्वयं को जाना एवं एक नये रूपांतरण का अनुभव किया।

-स्वामी शिखर

सूरत, गुजरात



16 से 19 फरवरी एक तीन दिवसीय ध्यान शिविर लगा। ध्यान-साधना में 100 साधकों का आगमन हुआ। संन्यास दीक्षा महोत्सव में 6 नये मित्रों ने नव-संन्यास लिया।

-स्वामी अंतर राही

रानीगंज, पश्चिम बंगाल



ओशो मेडिटेशन एनर्जी फील्ड द्वारा 17 से 19 फरवरी तीन दिवसीय ध्यान शिविर लगा। 22 मित्रों के साथ स्वामी अक्षय विवेक ने ध्यान शिविर का संचालन किया।

-स्वामी दयाल भारती

राजकोट, गुजरात



ज्योति सीएनसी ऑटोमेशन की ओर से 24 से 26 फरवरी एक तीन दिवसीय ध्यान-साधना का महत्वपूर्ण कार्यक्रम हुआ। यह प्रोग्राम फैक्ट्री के अंदर बने क्लब हाउस में रखा गया था जिसमें अनगिनत कर्मचारियों ने हिस्सा लिया। मा धर्म ज्योति के सान्निध्य में 30 मित्रों ने नव-संन्यास में प्रवेश पाया।

-कुलदीप रमानी

भुज, गुजरात

ओशो संकल्प ध्यान केंद्र में 24 से 26 फरवरी मौन-साधना शिविर लगा। मौन ध्यान के इस कार्यक्रम में 40 साधकों का आगमन हुआ। पूरे दिन ध्यान के बाद रात्रि गरबा नृत्य आयोजित किया गया जिसका उपस्थित मित्रों ने उत्सवपूर्ण आनंद लिया। शिविर का संचालन स्वामी आत्म क्रांति ने किया।

-स्वामी धर्म अद्वय

चांपा, छत्तीसगढ़



ओशो प्रेम ध्यान आश्रम में 19 फरवरी को एक दिवसीय ध्यान शिविर आयोजित किया गया। दिन में ध्यान के बाद संध्या सत्संग में कलाकारों ने भजनों की प्रस्तुति दी। शिविर में 55 संन्यासियों ने हिस्सा लिया। संचालन स्वामी आनंद एकांत ने किया।

-विवेक

लुम्बिनी, नेपाल

ओशो जेतवन कम्यून में 9 से 11 फरवरी ओशो ध्यान साधना शिविर लगा। शिविर में कई देशों से अनगिनत मित्रों व साधकों ने हिस्सा लिया। संन्यास महोत्सव में 19 मित्रों ने नव-संन्यास लेकर नये जीवन की शुरुआत की। ध्यान शिविर का संचालन स्वामी आनंद अरुण ने किया।

-स्वामी गोविन्द नारायण भारती

मलेशिया



10 से 12 फरवरी को चिन स्वी बुद्ध टेंपल में ओशो निओ-विपस्सना रिट्रीट ग्रुप आयोजित किया गया। ध्यान-ग्रुप में अनेक ओशो-प्रेमियों का आगमन हुआ। सभी ने विपस्सना ध्यान के प्रयोगों से गुजरकर स्वयं को जाना। तीन दिवसीय ध्यान-ग्रुप का संचालन स्वामी चैतन्य कीर्ति ने किया।

सोलन, हिमाचल प्रदेश



गत् 14 फरवरी को ओशो सर्किल फाउंडेशन द्वारा मुख्य बाजार माल रोड पर ‘ओशो ज़ाज़ेन बुक सेंटर’ का उद्घाटन किया गया। सभी ने इस नव-निर्मित ओशो-पुस्तकालय का स्वागत किया।

-स्वामी वीतराग भारती

देहरादून, उत्तराखंड



ओशो ओम बोधिसत्व कम्यून में 18 से 20 फरवरी के बीच ध्यान शिविर आयोजित किया गया। शिविर में विभिन्न प्रदेशों से आए संन्यासियों ने बड़े उत्साह से भाग लिया। संन्यास दीक्षा एवं शिविर-समापन आनंदातिरेक एवं मस्ती भरे नृत्य-संगीत से भरपूर रहा। स्वामी शिव भारती तथा मा योग मधु ने शिविर का संचालन किया।

धादिंग, नेपाल



ओशो के नव-निर्मित आश्रम, ओशो वेणुवन में 18 से 20 फरवरी तक तीन दिवसीय शिविर लगा। आश्रम में स्थानीय मित्रों के साथ-साथ देश-विदेश के प्रेमियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। नव-संन्यास महोत्सव में 55 मित्रों ने संन्यास दीक्षा ली। आश्रम का उद्घाटन एवं संचालन स्वामी आनंद अरुण ने किया।

नेपाल

ओशो तपोवन में गत् माह तीन सप्ताहांत ध्यान शिविर हुए। ओशो की ध्यान पद्धतियों को जन-साधारण से परिचित करवाने के लिए प्रत्येक सप्ताह यह ध्यान शिविर होते हैं। इन शिविरों में देश-विदेश के 150 प्रेमियों ने भाग लिया एवं 20 मित्रों ने नव-संन्यास धारण किया।

टीकमगढ़, मध्य प्रदेश



2 से 4 मार्च ओशो ध्यान साधना शिविर आयोजित किया गया। मनमोहक वातावरण में 125 मित्रों ने हिस्सा लिया। 18 साधकों ने नव-संन्यास ग्रहण किया। साधना शिविर का संचालन स्वामी सुधाकर भारती ने किया।

-डॉ. सुरेन्द्र कुमार जैन