Osho World Online Magazine :: December 2011
www.oshoworld.com
 
ओशो के ध्यान उपवन

राजकोट, गुजरात

ओशो सत्य प्रकाश ध्यान मंदिर द्वारा आयोजित साहित्य-प्रदर्शिनी का शुभारंभ मा धर्म ज्योति के सान्निध्य में हुआ।
26 सितम्बर को ‘ओशो नव-संन्यास दिवस’ पर एक-दिवसीय ध्यानोत्सव का कार्यक्रम हुआ। शिविर में 120 साधकों ने भाग लिया तथा 31 मित्रों ने नव-संन्यास धारण किया।

होशियारपुर, पंजाब

ओशो सायलेंस वैली में गत् 27 अक्टूबर से 02 नवम्बर तक नो-माइंड ग्रुप का कार्यक्रम हुआ। 13 मित्रों की उपस्थिति रही कार्यक्रम में। 2 नवम्बर को मौन और नृत्य के अनूठे संगम के साथ 2 मित्रों ने नव-संन्यास में छलांग लगाई। ध्यान-शिविर का संचालन स्वामी ओम गोविन्द ने किया।

-स्वामी प्रेम नवनीत

भिलाई, छत्तीसगढ़

ओशो प्रेम सागर ध्यान केंद्र में विगत् 29 सितम्बर से 02 अक्टूबर एक महत्वपूर्ण ध्यान शिविर लगा। पूरे भारत से 120 मित्रों ने भाग लिया और 10 मित्र नव-संन्यास में दीक्षित हुए। शिविर का संचालन किया स्वामी ध्यान निर्दोष ने।

-स्वामी ध्यान विरामो

ऋषिकेश, उत्तराखंड

ओशो कम्यून में 29 सितम्बर को एक-दिवसीय ध्यान शिविर संपन्न हुआ। कार्यक्रम में 20 लोगों की सहभागिता रही।

-स्वामी अमृत राकेश

अजमेर, राजस्थान

2 अक्टूबर को ओशो प्रेमी मित्रों द्वारा एक ‘ओशो फेस्टिवल’ का महत्वपूर्ण कार्यक्रम हुआ। दैनिक पत्रों एवं स्थानीय चैनल्स ने ध्यान-शिविर को सम्मानजनक स्थान प्रदान किया। स्वामी शिवकुमार ने शिविर का संचालन किया।

-स्वामी नीलकमल भारती

छिंदवाड़ा, मध्य प्रदेश

ओशो ध्यान केंद्र में एक-दिवसीय ध्यान शिविर संपन्न हुआ 3 अक्टूबर को जिसमें 50 प्रेमियों ने हिस्सा लिया। और दो दिवसीय ध्यान-शिविर लगा 7 व 8 अक्टूबर को। इस कार्यक्रम में 60 मित्रों ने भाग लिया।

देवताल, जबलपुर

ओशो अमृतधाम, दिनांक 06 से 11 अक्टूबर स्वदर्शन मौन साधना शिविर का आयोजन हुआ। ध्यान-शिविर में भारत के विभिन्न प्रांतों से अनेक साधक-मित्रों ने हिस्सा लिया।

-स्वामी शिखर

वाराणसी, उत्तर प्रदेश

07 से 09 अक्टूबर एक ध्यान शिविर आयोजित किया गया। शिविर का संचालन मा योग नीलम ने किया जिसमें 80 मित्रों ने भाग लिया। अंतिम दिन 10 साधक-मित्रों ने नव-संन्यास धारण किया।

-मा अमृता

कानपुर, उत्तर प्रदेश

तीन-दिवसीय ओशो ध्यान शिविर लगा मा ध्यान आभा और स्वामी अंतर जगदीश के कुशल संचालन में 07 से 09 अक्टूबर को। कार्यक्रम में अनगिनत ओशो-मित्रों की हिस्सेदारी रही। अंतिम दिन 13 मित्र नव-संन्यास में दीक्षित हुए।

-स्वामी अंशुमन

होशंगाबाद, मध्य प्रदेश

शरद पूर्णिमा के अवसर पर एक तीन दिवसीय ओशो ध्यान शिविर आयोजित किया गया। 09 से 11 अक्टूबर तक चले कार्यक्रम में अनगिनत ओशो-प्रेमियों की उपस्थिति रही। कार्यक्रम का संचालन मा संगीत ने किया।

-स्वामी जीवन वसंत

ओशो मौलश्री आश्रम, जहानपुर

एक पांच-दिवसीय महिला वर्कशाप संपन्न हुआ 09 से 13 अक्टूबर को। कार्यक्रम में ओशो-साधिकाओं ने चित्रकला एवं मूर्तिकला का प्रशिक्षण लिया। पूरे शिविर का संचालन मा तन्मया ने किया।

टिकुलिया, बिहार

ओशो आनंद ध्यान केंद्र में गत् 14 से 16 अक्टूबर एक ध्यान-शिविर लगा। स्वामी अंतर आलोक एवं मा प्रेम ईशा के संचालन में 70 मित्रों ने ओशो की अनूठी ध्यान विधियों में गोता लगाया। साथ-ही-साथ 7 नए मित्रों ने नव-संन्यास में प्रवेश पाया।

-स्वामी ध्यान रिक्तम्

घोघा, गुजरात

समुद्र तट के निकट एक ओशो ध्यान शिविर लगा दिनांक 15 अक्टूबर को। अनेक ओशो-मित्रों की उपस्थिति में कार्यक्रम का संचालन किया स्वामी आत्मा राम ने।

ओशो पुस्तक प्रदर्शिनी

ओम शांति ओशो मोबाइल लाईब्रेरी द्वारा 16 व 17 अक्टूबर को जयपुर में पुस्तक-प्रदर्शिनी लगाई गई। इस अवसर पर पुलिस कमिश्नर बी.एल.सोनी ने ‘मैं मृत्यु सिखाता हूं’ तथा ‘मैं कहता आंखन देखी’ का विमोचन किया। कार्यक्रम में अनेक ओशो-प्रेमियों की सहभागिता रही।

-स्वामी ओम शांति

सोलन, हिमाचल प्रदेश

गत् 16 से 22 अक्टूबर एक सात-दिवसीय बोर्न अगेन ध्यान ग्रुप का आयोजन हुआ। इस ग्रुप में 30 संन्यासी-मित्रों की उपस्थिति रही। मा ध्यान आभा एवं स्वामी अंतर जगदीश ने पूरे शिविर का संचालन किया।

-स्वामी गोविन्द चैतन्य

रानीगंज, पश्चिम बंगाल

ओशो मेडिटेशन इनर्जी फील्ड में 21 से 23 अक्टूबर त्रि-दिवसीय ध्यान शिविर संपन्न हुआ। स्वामी अक्षय विवेक ने अनेक महत्वपूर्ण ओशो ध्यान विधियों से मित्रों को अवगत करवाया।

-स्वामी दयाल

शाहगंज, आगरा

ओशो ध्यान साधना केंद्र एवम् लाईब्रेरी में 25 अक्टूबर को दीपोत्सव बड़ी धूम-धाम से मनाया गया। एक-दिवसीय कार्यक्रम में अनेक ध्यान-विधियां हुईं जिसका संचालन स्वामी ज्ञान दीपेश ने किया।

-भूदेव प्रसाद

बोकारो स्टील सिटी, झारखंड

ओशो ध्यान साधना केंद्र, ओशो आश्रम की ओर से ओशो जन-संदेश प्रसार अभियान ध्यान का कार्यक्रम हुआ। ग्राम के युवाओं, बच्चों व महिलाओं ने इस प्रोग्राम में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया।

-स्वामी देव उत्सव

बीकानेर, राजस्थान

वर्ष 2011 में, ओशो के 80वें जन्मदिवस के उपलक्ष पर ओशो लाईब्रेरी द्वारा ‘ओशो: महासागर की पुकार’ का विमोचन स्वामी आनंद प्रेम ने किया। 31 अक्टूबर को हुए इस कार्यक्रम में अनेक ओशो-संन्यासियों की उपस्थिति रही।

-स्वामी ओम शांति

काठमाण्डू, नेपाल

ओशो तपोवन में दो सात-दिवसीय साधना शिविर लगे। प्रथम कार्यक्रम में 130 एवं दूसरे शिविर में 210 प्रेमियों ने भाग लिया। गुरु की प्रगाढ़ उपस्थिति में 33 मित्र संन्यस्त हुए। संचालन स्वामी आनंद अरुण तथा सहयोग स्वामी कृष्ण मोहन का रहा। साथ-ही 15 अक्टूबर को नेपाल अनिवासी मित्रों की एक ध्यान-कार्यशाला भी लगी।

दामन, नेपाल

13 से 18 अक्टूबर एक पांच-दिवसीय मौन ध्यान साधना आयोजित किया गया। स्वामी हरिशचंद्र भारती ने कार्यक्रम का संचालन किया जिसमें 25 प्रेमियों की उपस्थिति रही। संन्यास उत्सव में 10 मित्र नव-संन्यास में दीक्षित हुए।

ओशो जगत आश्रम, नेपाल

गत् 18 से 20 अक्टूबर एक तीन-दिवसीय ओशो स्वदिशा बोध-ध्यान शिविर लगा। कार्यक्रम में 200 ओशो-प्रेमियों ने भाग लिया और 30 मित्रों ने नव-संन्यास धारण किया। शिविर का संचालन स्वामी आनंद विजय एवं मा जीवन दर्पण ने किया।