Osho World Online Hindi Magazine :: September 2012
www.oshoworld.com
 
  टैरो
 
 

दिसम्बर 2012 - मा दिव्यम नदीशा

"आदमी की गहरी इच्छा न तो धन की है, न पद की। आदमी की गहरी इच्छा परमात्मा की है। और जिस दिन आपको दिखाई पड़ जायेगा कि मेरी इच्छा परमात्मा की है, उसी दिन आपकी ज़िंदगी में एक क्रांति हो जाती है। आपके भीतर धार्मिक आदमी का जन्म शुरू हो जाता है।"

-ओशो

मेष: मार्च 21 - अप्रैल 20

आपको इस समय यह देखना होगा कि दूसरों की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिये आप अपने को किसी बोझ तले न दबा लें। आपका हमेशा यही प्रयास रहता है कि आपके कारण किसी को कोई नाराज़गी न हो। परंतु आप इस बात का ध्यान रखें कि आप अपने सहज स्वभाव के विपरीत जाकर कोई भी कार्य न करें। आप ऐसा कुछ न करें जिसके लिये आपका स्वयं का हृदय आपको आज्ञा न दे। आप खुद भी प्रसन्न तभी महसूस करेंगे जब कोई काम आपकी अपनी इच्छा से किया हुआ होगा, न कि केवल किसी अपेक्षा-पूर्ति हेतु। ध्यान में गहरे जाने से आपको अपने स्वभाव के अनुकूल बने रहने में सहायता मिलेगी। इस वर्ष का समापन होश-पूर्ण रहते हुये करने का प्रयास करें।

वृषभ: अप्रैल 21-मई 21

इस साल का अंत जैसे-जैसे करीब आता जायेगा, वैसे-वैसे आप अपने अंदर उत्साह और आनंद बढ़ता हुआ महसूस करेंगे। दिन-ब-दिन आप अपने को प्रफुल्लित पायेंगे। यह अत्यंत ही शुभ है। आप अपने परिवार और मित्रों के साथ समय व्यतीत करना चाहेंगे। साथ ही मिल-जुलकर मनोरंजक कार्यों में हिस्सा लेंगे। निकटतम लोगों के साथ इस समय किसी यात्रा पर जाना आपके जीवन में सुखद अनुभव जोड़ देगा। आपको सकारात्मक ऊर्जा से ओत-प्रोत देखकर आपसे जुड़े लोगों के जीवन में भी आनंद बढ़ेगा। आप लोगों के लिये प्रेरणा-स्त्रोत बनेंगे। जीवन के प्रति इसी सकारात्मक दृष्टिकोण को बनाये रखें, इससे अन्य लोगों को जीवन में आगे बढ़ने हेतु सही मार्ग-दर्शन मिलेगा।

मिथुन: मई 22-जून 21

आप इस समय सौंदर्य और कला की ओर विशेष आकर्षण महसूस करेंगे। साथ ही अपनी जीवनशैली में भी अपने स्वभाव के अनुकूल एक लय महसूस करेंगे। प्राकृतिक सौंदर्य की बारीकियों को देखकर आप विस्मय से भर उठेंगे। आप स्वयं अपने को भी सबके समक्ष सुंदर और व्यवस्थित ढंग से पेश करना चाहेंगे। इसके लिये आप अपने वस्त्रों का चुनाव भी ध्यान से करेंगे। परंतु साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि वास्तविक सौंदर्य आपके भीतर स्थित है। आपका हृदय, आपके भाव, आपका अंतरतम जितना शांत और सुंदर होगा, उतने ही आप बाहर से भी सुंदर प्रतीत होंगे। संगीत और नृत्य में रूचि लेते हुये, आपको चाहिये कि झूमते-गाते आप इस वर्ष को विदा दें।

कर्क: जून 22-जुलाई 22

इस साल के विदा होने के साथ-साथ आप इस निरीक्षण में लग जायेंगे कि कब-कब आपके समक्ष आये अवसरों का आपने उचित लाभ उठाया और कब-कब आपसे कोई भूल-चूक हुई है। इस प्रक्रिया में आप अपनी गलतियों से सीख लेकर, आगे इन्हें न दोहराने का प्रयास करेंगे। आप अपने बीते पूरे साल की गौर से जांच करने में लगेंगे और हर महत्वपूर्ण रही परिस्थितियों को सही-गलत के पहलू से देखेंगे। आपके लिये इस समय उचित है कि इस प्रकार की प्रक्रिया में ज़्यादा मानसिक तनाव न लें। खासकर पीछे की गई किसी भी तरह की छोटी-बड़ी भूल के कारण ग्लानी ना महसूस करें। ज़्यादा सोच-विचार में डूबकर अपने समय को व्यर्थ नष्ट ना करें। वरन् अपने निजी जनों के साथ प्रेम बांटकर आनंद-पूर्ण होकर यह समय बितायें।

सिंह: जुलाई 23-अगस्त 23

अपने बीते वर्ष पर सकारात्मक होकर एक सरसरी नज़र डालेंगे, तो पायेंगे कि आपने ऐसा बहुत कुछ प्राप्त किया जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की थी। ऐसे अनेक अवसर रहे आपके इस साल में, जहां बिना मांगे ही आपकी इच्छाओं की पूर्ति हुई हो। आनंद से पूर्ण रही ऐसे ही क्षणों की स्मृतियों को अपने हृदय में एकत्रित रखें। इससे आप परमात्मा के प्रति धन्यवाद महसूस करेंगे। आनंद से भरे पलों का सतत स्मरण आपको आगे भी आनंदित और प्रसन्न रहने में सहायता करेगा। अपने परिवार के साथ आप सुंदर समय व्यतीत करेंगे और अपने निजी संबंधों में निकटता महसूस करेंगे। अपने भीतर महसूस कर रहे इस प्रेम को बांटें और अपने वातावरण को उत्सव में परिवर्तित करने का प्रयास करें।

कन्या: अगस्त 24-सितम्बर 23

इस समय स्वयं को हर चुनौती का सामना करने के लिये तैयार कर लें। किसी भी परेशानी का हल ढूंढने के लिये पहले चाहिये कि आप उसे देखकर घबराये नहीं। वरन् पूरी हिम्मत और साहस के साथ उसका सामना करें। इस समय ध्यान रखें कि पलायनवादी न बने। मुश्किल को देखकर भागने से, मुश्किलें और भी बड़ी हो जाती है। अतः जीवन को प्रतिपल चुनौती मानते हुये, हर चुनौती का डटकर सामना करें। समस्या से जूझना ही समाधान की ओर पहला कदम है। ध्यान में गहरे जायें और छोटी-बड़ी, किसी भी प्रकार की कठिनाई को अपने आत्मविकास का अवसर समझकर पूर्ण उपयोग करें।

तुला: सितम्बर 24-अक्टूबर 23

वर्ष के समापन के साथ-साथ भूतकाल से जुड़े जो भी विचार हैं, अनुभव हैं, स्मृतियां हैं उन्हें भी वर्ष के साथ-साथ विदा दें। इससे आप अपने अतीत से मुक्त होकर, अपने वर्तमान में पूरी तरह ध्यान दे पायेंगे। आने वाले भविष्य कि चिंताओं और योजनाओं से अपने को मुक्त रखने का प्रयास करें। वर्तमान के हर क्षण को सम्पूर्ण रूप से जीने का प्रयास करें। ऐसा समझें कि जो है - अभी है, यहीं है। अपनी सोच की जड़ें वर्तमान में रखकर आप स्वयं को अधिकतम रूप से तनावमुक्त रख पायेंगे। परिवारजनों के साथ मधुर समय व्यतीत कर सकेंगे। हर्षोल्लास से पूर्ण होकर इस साल को अलविदा दें।

वृश्चिक: अक्टूबर 24-नवंबर 22

यदि आप इस समय अपने जीवन को बहुत ही मूर्च्छित ढंग से जी रहे हैं, तो आपके लिये आवश्यक है कि सवयं में थोड़ी सी स्फूर्ति लायें। बेहोशी में अथवा आलस्य के कारण किसी भी परिस्थिति में ढीला रवैया रखना, आपके लिये उपयुक्त नहीं है। आपकी इस प्रकार की जीवनशैली से आप अपनी ऊर्जा को व्यर्थ नष्ट न होने दें। अपने को चुस्त-स्फुर्त बनाकर, अपनी ऊर्जा को सृजनात्मक कार्यों में लगने दें। साथ ही स्वयं को भीतर से सरल बनाये रखने का प्रयास करें। इस आंतरिक सरलता को बनाये रखने से आपके स्वभाव में सहजता और प्रामाणिकता बनी रहेगी। ध्यान का मार्ग अपनाकर आप अपने स्वभाव की सरलता और सहजता से निकटता बना पायेंगे।

धनु: नवंबर 23-दिसंबर 23

इस समय आप दूसरों से बहुत जल्दी प्रभावित हो सकते हैं। दूसरे आपसे क्या बोलते हैं, इससे आपके महत्वपूर्ण निर्णय पर असर पड़ सकता है। अनेक मौकों पर आप ऐसा महसूस कर सकते हैं कि विपरीत विचारों में खींचतान के कारण आपको स्थिति का आंकलन करने में मुश्किल हो। इस समय आपके लिये ज़रूरी है कि लोगों के अनुसार नहीं, बल्कि आप अपनी सोच से, अपनी सूझबूझ से, अपने अनुभव को ध्यान में रखकर हर कार्य करें। आपमें स्वयं में इतनी क्षमता और समझ है कि आप अपने निर्णय बिना किसी पर निर्भर रहे ले सकते हैं। इसलिये, इस समय अपना आत्मविश्वास जगायें और अपने अनुसार ही कार्यों को करें। स्वेच्छा से लिये गये निर्णय आपको ज़्यादा संतोष प्रदान करेंगे। एकांत में किये गये ध्यान से आप ज़्यादा गहराई अनुभव करेंगे।

मकर: दिसंबर 24-जनवरी 20

इस समय आप अपने भीतर गहन संतोष महसूस करेंगे। यह पूरा वर्ष जिस प्रकार व्यतीत हुआ है, उससे आपको शिकायत न होगी। और आपने इस वर्ष जो भी पाया है, उसकी खुशी आप महसूस करेंगे। आपको जो भी मिला है उसके लिये आपके अंदर परमात्मा के प्रति धन्यवाद की भावना उठेगी। आप प्रकृति का स्वयं प्रसाद बरसता महसूस करेंगे। संतोष की इस भावना को पूर्ण रूप से महसूस करते हुये आप किसी भी महत्वकांक्षा से उपर उठने में समर्थ रहेंगे। साल के आ रहे अंतिम समय का खूब आनंद लें। अपने मन को पूरी तरह भूतकाल के विचारों और भविष्यकाल की योजनाओं से मुक्त रखने का प्रयास करें।

कुंभ: जनवरी 21-फरवरी 19

आप पर बरस रहे परमात्मा के आशीर्वाद को आप अनुभव कर पायेंगे। आप यह समझ पायेंगे कि प्रकृति आपको अभी तक वही दे रही है जिसकी आपको आवश्यकता रही है। परंतु आप ऐसा तभी महसूस कर पायेंगे जब आप अपने स्वभाव की संवेदनशीलता को नष्ट न होने दें। इसके लिये आपको चाहिये कि आप अपने मस्तिष्क से ज़्यादा पर हृदय पर केंद्रित रहें। हृदय के केंद्र पर रह कर ही आप अपने जीवन का सही रूप से संचालन कर पायेंगे। आपके कार्यक्षेत्र में उन्नति के लिये आपको विभिन्न संभावनाओं के द्वार खुले मिलेंगे। अतः इस समय अपनी क्षमताओं को पहचानकर अपने समक्ष उपस्थित अवसरों का उचित लाभ उठायें। साथ ही परमात्मा की जो छत्र-छाया रही है उसका धन्यवाद करना ना भूलें।

मीन: फरवरी 20-मार्च 20

हास्य का मार्ग अपनाकर आप इस साल को अत्यंत ही सुंदर तरीके से विदा दे सकते है। हंसते-हंसते यदि इस साल को विदा देंगे, तो इससे ज़्यादा उपयुक्त आपके लिये इस समय कुछ भी नही है। यह आपको ज़्यादा जीवंत और ऊर्जावान बनायेगा। साथ ही आपको दूसरो के जीवन में आनंद और प्रसन्नता लाने का शुभ अवसर प्राप्त होगा। इस प्रकार के किसी भी अवसर को ना चूकें। प्रेम और आनंद बांटने के लिये किसी भी विशेष कारण या अवसर की प्रतीक्षा ना करें। 'हास्य' एक ऐसी अद्भुत औषधि है, एक ऐसा अनूठा प्रयास है जो सबकी गहराईयों में प्रवेश करने की क्षमता रखता है। इसका प्रयोग करके आप अपना और अपने से जुड़े लोगों का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य बनाये रखने में सहायक बन पायेंगे।