Osho World Online Hindi Magazine :: February 2012
www.oshoworld.com
 
समाचार-जगत

‘‘मेरा विद्रोही नया मनुष्य ही ‘जोरबा-बुद्ध’ है। मनुष्यता अभी तक यह विश्वास करते हुए जीती आई है कि या तो आत्मा ही एकमात्र वास्तविकता है तथा संसार और पदार्थ एक भ्रम हैं अथवा पदार्थ ही वास्तविक है और आत्मा मात्र एक भ्रम है।’’ दिसम्बर माह में हिंदुस्तान समाचार ने ‘एक नई मनुष्यता का जन्म’ पुस्तक से ओशो-प्रवचनांश प्रकाशित किए। और जयपुर के हिंदी पत्र पक्षी का संदेश ने राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोक और स्वामी चैतन्य कीर्ति को ओशो वर्ल्ड की दिसम्बर पत्रिका का विमोचन करते हुए दर्शाया है।

7 दिसम्बर को दैनिक जागरण के सप्तरंग स्तंभ में ‘मन ही माया है’ शीर्षक से ओशो-प्रवचांश प्रकाशित हुए। ओशो कहते हैं: ‘‘संत लाख कहें कि संसार माया है, लेकिन सौ में से निन्यानबे संत तो खुद ही माया में उलझे रहते हैं। लोग भी अंधे नहीं हैं। वे सब समझते हैं। वे समझते हैं कि महाराज हमें समझा रहे हैं कि संसार माया है, वहीं वे स्वयं माया में ही उलझे हुए हैं। मेरा मानना है कि संसार माया नहीं, बल्कि सत्य है।’’

‘ओशो ने दुनिया में एक नई क्रांति का सूत्रपात किया: स्वामी सत्य वेदांत’, इस शीर्षक के साथ 9 दिसम्बर को पुणे के आज का आनंद पत्र में, ओशो के 80वें जन्मोत्सव पर ओशो-स्मारिका और वीडियो सीडी का विमोचन करते हुए स्वामी सत्य वेदांत तथा स्वामी सुरेन्द्र सरस्वती को सचित्र दिखाया है। साथ-ही दैनिक भास्कर ने जालंधर से ओशो वर्ल्ड पत्रिका का विमोचन करते हुए गायक ‘हंस राज हंस’ को दिखाया।

ओशो के 80वें जन्मदिवस पर पूरे भारत से अनेक हिंदी तथा अंग्रेजी दैनिक पत्र-पत्रिकाओं ने ओशो-प्रवचनों तथा उद्धरणों को अपने दैनिक पत्रों में महत्वपूर्ण स्थान दिया। जिसमें मुख्यतः नवभारत टाइम्स, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स, दैनिक ट्रीबुन, आज समाज, सकाल टाइम्स, राजस्थान गौरव, दिव्य हिमाचल, दैनिक भास्कर, द इंडियन एक्सप्रेस, स्वतंत्र वार्ता, नया इंडिया, फर्स्ट सिटी, गृहलक्ष्मी, पल्स ऑफ मार्केट हैं। सभी पत्र-पत्रिकाओं के प्रति अहोभाव।