Osho World Online Hindi Magazine :: January 2012
www.oshoworld.com
 
पुस्तक परिचय
ओशो: आज और अभी
नए भविष्य, नए मनुष्य का युग-दर्शन

सद्गुरु ओशो के 80वें जन्मदिन एवं 21वें ओशो-दिवस महोत्सव के उपलक्ष में पुणे के ज़ोरबा डिज़ाइन्स ने वर्ष 2012 की ओशो स्मारिका को प्रकाशित किया है।

स्मारिका में, ओशो को उद्धृत करते हुए स्वामी सत्य वेदांत लिखते हैं: ‘‘ओशो, चेतना के एक महासागर हैं जिसमें अनगिनत, वैविध्यपूर्ण, रंगीन जगत तैरता नज़र आता है। इस महासागर में बोध और ज्ञान है, विज्ञान और अध्यात्म है, काव्य और बोध-कथाएं हैं, बुद्धों की वाणी, संतों के वचन, जीवन का सर्वांगीण विवेचन और मुल्ला नसरुद्दीन की चुटकियां भी हैं।’’

स्मारिका के साथ एक सी.डी. तथा वर्ष 2012 का कैलेंडर भी संलग्न है। ओशो-चित्रों के साथ-साथ कैलेंडर में ओशो-उद्धरण भी दिए गए हैं। इस संकलन में ओशो कहते हैं: ‘‘इतना ही कहना चाहता हूं भारत से कि तुम अपने असली चेहरे को पहचानो, तुम गौतम बुद्ध के देश हो। तुम कृष्ण के देश हो। तुम पतंजलि के देश हो। तुमने उन सितारों को जन्म दिया है, जिनका कोई मुकाबला दुनिया में नहीं है।’’

104 पन्नों की इस मनभावन स्मारिका का मूल्य 250 रुपए है जिसे नई दिल्ली स्थित ओशो वर्ल्ड गैलेरिया से खरीद सकते हैं और अपने मित्रों को भी भेंट कर सकते हैं।