Osho World Online Hindi Magazine :: June 2012
www.oshoworld.com
 
विशेष रिपोर्ट
विधानसभा पुस्तकालय के लिए ओशो साहित्य भेंट

विधानसभा अध्यक्ष दीपेंद्र सिंह शेखावत ने शुक्रवार 4 मई को विधानसभा पुस्तकालय के लिए ओशो की 246 पुस्तकों का एक सेट भेंट किया।

विधानसभा के विधायक कक्ष में आयोजित ओशो ध्यान शिविर में श्री शेखावत ने कहा कि ओशो ने नए समाज की रचना के लिए समाज को नए मूल्य दिए और नए प्रयोग कर व्यक्ति में छिपी शक्ति को उजागर करने का प्रयास किया। उन्होंने ओशो लाइब्रेरी और उनसे संबंधित सभी पदाधिकारियों को विधानसभा पुस्तकालय के लिए पुस्तकें भेंट करने के लिए आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर स्वामी सत्य वेदांत ने कहा कि ओशो एक व्यक्ति नहीं बल्कि एक शक्ति हैं और उनके क्रांतिकारी विचारों के कारण उनका अस्तित्व सदैव बना रहेगा। स्वामी तथागत ने बताया कि ओशो के विचारों की लगभग 650 पुस्तकें उपलब्ध हैं जिनका विश्व की सौ से अधिक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है। उन्होंने लोक मंदिर में बुद्धत्व की आवाज को बुलंद करने पर विधानसभा अध्यक्ष का आभार जताया।

समारोह में विधानसभा अध्यक्ष ने स्वामी सत्य वेदांत की पुस्तक ‘ओशोः ध्यान और उत्सव के ओजस्वी ऋषि’ का भी लोकार्पण किया।

-साभार, दैनिक लोकदशा