Osho World Online Hindi Magazine :: March 2012
www.oshoworld.com
 
ओशो वर्ल्ड विशेष रिपोर्ट
ध्यान संगीत सी. डी. तथा डी. वी. डी. का अनावरण

गत् माह 1 फरवरी को नई दिल्ली स्थित ओशो वर्ल्ड गैलेरिया में ध्यान विधियों की पांच नई डी.वी.डी. तथा ध्यान-संगीत सी.डी. का अनावरण हुआ।

धर्मशाला से आए स्वामी आनंद तथागत के निर्देशन में, ओशो निसर्ग ध्यान केंद्र में बनी कुण्डलिनी, डायनामिक, महामुद्रा, देववाणी एवं गौरीशंकर ध्यान की--डेमो डी.वी.डी. (अर्थात ध्यान विधियों का प्रयोग कैसे करें) निश्चित ही एक अनूठा प्रयास है। इनका उच्चस्तरीय प्रोडक्शन मा प्रभु दामिनी के द्वारा हुआ है।

ध्यान-विधियों की सी.डी. का लोकार्पण करने के लिए एक फरवरी की संध्या 5:30 बजे, देश की प्रथम महिला आई.पी.एस. डॉ. किरण बेदी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुईं। साथ-ही डॉक्यूमेंट्री फिल्म की निर्माता डॉ. लवलीन थडानी भी इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुईं।

प्रोग्राम के दौरान ओशो महामुद्रा ध्यान की डी.वी.डी. उपस्थित मित्रों को दिखाई गई।

ध्यान के इस कार्यक्रम के बाद मुख्य अतिथि ने सभी प्रेमियों को बताया कि, ओशो की ध्यान विधियां हमें स्वयं को खोजने और परमात्मा से जुड़ने का मार्ग बताती हैं।

गैलेरिया में लोकार्पण की गई सभी ध्यान विधियों की डी.वी.डी. के बारे में कुछ बातें यहां उल्लेखनीय हैं:

ओशो कुण्डलिनी ध्यान: यह सक्रिय ध्यान की प्रक्रिया है जिसमें पंद्रह-पंद्रह मिनट के चार चरण होते हैं।

ओशो महामुद्रा ध्यान: इसमें ध्यान के दो चरण होते हैं। पहले चरण में लातिहान विधि का प्रयोग होता है तथा दूसरे चरण में साधक प्रार्थना करते हुए ऊर्जा को प्राप्त करते हैं।

ओशो डायनामिक ध्यान: यह ध्यान एक घंटे का है और इसमें पांच चरण होते हैं। आधुनिक मनुष्य के लिए यह ध्यान-विधि सर्वाधिक महत्वपूर्ण है।

ओशो देववाणी ध्यान: देववाणी का अर्थ है परमात्मा की वाणी। यह ध्यान जीभ का लातिहान है। यह विधि चेतन मन को गहराई से शिथिल करती है तथा अचेतन से जोड़ देती है। इसका प्रयोग सोने से पहले उपयोगी है।

ओशो गौरीशंकर ध्यान: इस ध्यान में पंद्रह-पंद्रह मिनट के चार चरण होते हैं। इन चरणों में श्वास-प्रश्वास को ठीक से कर लिया जाए तो आप स्वयं को गौरीशंकर जितना ऊंचा अनुभव करेंगे।

ध्यानोत्सव के इस कार्यक्रम में अनेक साधकों की सहभागिता रही। पूरे कार्यक्रम का संचालन स्वामी चैतन्य कीर्ति ने किया।

विडियो
समय : 2 मिनट 25 सेकंड