Osho World Online Hindi Magazine :: May 2012
www.oshoworld.com
 
गतिविधियाँ

मधेपुरा, बिहार

1 से 21 मार्च, 21 दिवसीय सक्रिय ध्यान प्रयोगों का एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम हुआ ओशो मेघदूत उपवन में। साथ-ही 19 से 21 मार्च संबोधि दिवस महोत्सव आयोजित किया गया। शिविर में ओशो-संन्यासियों के साथ-साथ बच्चों तथा युवाओं ने भी ध्यान, गीत-संगीत व उत्सव का भरपूर आनंद लिया। कार्यक्रम का संचालन मा प्रेम प्रशंसा तथा स्वामी अंतर आलोक ने किया।

-स्वामी प्रेम अनुतोश

भुज, कच्छ



ओशो संकल्प ध्यान केंद्र में एक पांच दिवसीय ध्यान शिविर संपन्न हुआ। ओशो द्वारा बताए गए गहन प्रयोगों को सभी साधकों ने भावपूर्ण शैली में किया। स्वामी अंतर संतोष ने पूरे शिविर का संचालन किया।

-स्वामी धर्म अद्वय

जालंधर, पंजाब

ओशोधाम, दिल्ली व ओशो फ्रेंड्स क्लब, जालंधर की ओर से एक ओशो फिल्मोत्सव का आयोजन रेड क्रास भवन, लाजपत नगर में किया गया। फिल्म शो में ओशो की जीवन-यात्रा से जुड़ी बातों व प्रवचनों को स्क्रीन के माध्यम से दिखाया गया। उत्सव में विभिन्न जगहों से आए अनगिनत संन्यासियों व प्रेमियों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया।

-ओशो फ्रेंड्स क्लब

आगरा, उत्तर प्रदेश



ओशो ध्यान साधना केंद्र एवं लाइब्रेरी में एक दिवसीय ध्यान शिविर लगा। कार्यक्रम में कई दैनिक ध्यान विधियों को करवाया गया। साथ-ही सूफी ध्यान की पूरी जानकारी दी गई। विभिन्न ध्यान-प्रयोगों के माध्यम से शिविरार्थियों ने मौन का आनंद लिया।

-स्वामी ज्ञान दीपेश

वाराणसी, उत्तर प्रदेश



ओशो मंदाकिनी आश्रम में 2 से 4 मार्च ओशो ध्यान शिविर लगा। मा प्रेम पूर्णिमा के संचालन में उपस्थित मित्रों ने मौन एवं ध्यान की गहराइयों में डुबकी लगाई। शिविर समापन 7 मित्रों के नव-संन्यास उत्सव के साथ हुआ।

-मा अमृता

बैतूल, मध्य प्रदेश



दिनांक 2 से 5 मार्च ओशो ध्यान साधना शिविर आयोजित किया गया। शिविर के प्रथम दिन सभी साधकों द्वारा शहर के मुख्य मार्ग से आनंद यात्रा निकाली गई। 200 मित्रों ने ध्यान-यात्रा में भाग लिया। नव-संन्यास महोत्सव में 40 प्रेमियों ने दीक्षा ली। शिविर का संचालन स्वामी आनंद विजय ने किया।

-सुनील राठौर

हिंगना, नागपुर



संजीवन आश्रम में 2 से 7 मार्च पांच दिवसीय मेडिटेशन वर्कशॉप ‘सेल्फ इंक्वायरी’ का प्रोग्राम हुआ। शिविर में दैनिक ध्यान के साथ-साथ सांध्य-सत्संग के कार्यक्रम हुए। कार्य ध्यान का संचालन स्वामी आनंद अभय ने किया।

-स्वामी प्रेम अनमोल

देवताल, जबलपुर

ओशो अमृतधाम में 19 से 21 मार्च को ओशो संबोधि दिवस महोत्सव का आयोजन हुआ। भारत के विभिन्न प्रांतों से आए साधकों ने शिविर में हिस्सा लिया। सभी ने ध्यान-प्रयोगों से गुजरकर एक नये रूपांतरण का अनुभव किया।

भीमताल, नैनीताल



ओशो ओम् प्रकाश पीठ में 21 से 25 मार्च संबोधि दिवस महोत्सव मनाया गया। सर्दी, बरसात व बर्फ के बावजूद अनेक मित्रों की भागीदारी सराहनीय रही। साथ-ही कई मित्र नव-संन्यास में दीक्षित हुए। शिविर का संचालन स्वामी शून्यम् प्रकाश द्वारा किया गया।

-स्वामी सौभाग्य

डालूवाला, हरिद्वार

16 से 21 मार्च ओशो प्रेम नीड़ आश्रम के प्राकृतिक वातावरण में ओंकार पर आधारित ओशो ध्यान शिविर संपन्न हुआ। सभी ने विज्ञान भैरव तंत्र में बताई गई विधियों का प्रयोग किया तथा राम रतन धन को जाना और ओशो का आशीर्वाद प्राप्त किया। कार्यक्रम में कई राज्यों से अनेक प्रेमियों का आगमन हुआ। शिविर का संचालन मा प्रेम भारती ने किया।

-मा प्रेम मीरा

देहरादून, उत्तराखंड



ओशो ओम बोधिसत्व कम्यून में 17 से 21 मार्च द वे ऑफ द हार्ट ग्रुप एवं ओशो संबोधि दिवस महोत्सव आयोजित किया गया। भारत के कई प्रांतों के साथ-साथ विदेशों से आये 50 साधकों ने भाग लिया। मस्तिष्क से हृदय की इस अंतर्यात्रा में सभी खूब नाचे और प्रतिदिन संध्या विडियो-प्रवचन द्वारा ओशो की ऊर्जा से अभिभूत हुए। 21 मार्च को सांध्य सत्संग के दौरान आठ नये मित्र ओशो-परिवार में सम्मिलित हुए। ध्यान-ग्रुप एवं महोत्सव का संचालन मा धर्म ज्योति के सान्निध्य में संपन्न हुआ।

पुरी, उड़ीसा

ओशो के संबोधि दिवस 21 मार्च के उपलक्ष में 17-18 मार्च को ओशो भक्ति ध्यान शिविर आयोजित किया गया। सांध्य सत्संग के दौरान 18 मार्च को कई मित्रों ने नव-संन्यास में दीक्षा ग्रहण की। शिविर संचालक स्वामी शून्यम् प्रकाश द्वारा ओशो श्रीक्षेत्र ध्यानपीठ केंद्र की घोषणा की गई। सभी प्रेमियों ने नये ध्यान केंद्र के खोले जाने पर पूरे उत्साह के साथ हर्ष व्यक्त कर स्वागत किया।

-स्वामी अंतर विकास

पोरबंदर, गुजरात

ओशो आश्रम में 17 से 21 मार्च संबोधि दिवस महोत्सव मनाया गया। पांच दिन तक स्वामी विट्ठल के संचालन में छोटी-छोटी ध्यान-विधियों के प्रयोग हुए। 21 मार्च को 15 साधकों ने संन्यास जीवन में प्रवेश किया। पूरे शिविर में 200 मित्रों ने नृत्य-गीत, संगीत तथा हास्य का आनंद लिया।

-स्वामी विट्ठल

चतरपुरा, जयपुर

ओशो संबोधि दिवस पर तीन दिवसीय ध्यान शिविर का आयोजन ओशो ध्यान मंदिर में किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ कलाकार तनिष्क के तबला वादन एवं गुरुवाणी के साथ 18 मार्च की संध्या किया गया। शिविर में अनगिनत मित्रों की सहभागिता रही।

-नवीन

सोलन, हिमाचल प्रदेश



18 मार्च को एक दिवसीय शिविर लगा ओशो आशीष ध्यान केंद्र में। कार्यक्रम में डायनामिक, कुडलिनी, नादब्रह्म तथा सांध्य सत्यंग हुए। स्वामी ज्ञान अनुग्रह ने शिविर का संचालन किया।

-राजीव मोंगा

गोवा



ओशो प्रेयर होम में 18 से 22 मार्च एक पांच दिवसीय ध्यान लगा। संबोधि दिवस पर विभिन्न प्रदेशों के अनेकों साधकों का आगमन हुआ। सभी ने ध्यान और उत्सव का भरपूर आनंद लिया।

-मा ध्यान नीरजा

वनखंड, झारखंड



ओशो संबोधि दिवस के अवसर पर 19 से 21 मार्च तक ध्यान शिविर का सुंदर आयोजन किया गया। उत्सव में दूर-दराज के क्षेत्रों से अनेक साधकों ने विभिन्न ध्यान विधियों में गहरी अनुभूति पाई। शिविर का संचालन स्वामी देव उत्सव ने किया।

इंदौर, मध्य प्रदेश



ओशो ध्यान विज्ञान मंदिर में ओशो संबोधि दिवस महोत्सव बड़े ही धूम-धाम के साथ मनाया गया। इस अवसर पर ओशो के ऑडियो प्रवचन हुए। संबोधि दिवस पर बड़ी संख्या में स्थानीय मित्रों की उपस्थिति रही। शिविर का संचालन स्वामी स्वाधार तीर्थ ने किया।

सहरसा, बिहार

ओशो आश्रम में 21 मार्च को स्वामी अमृत जश्न के आयोजन में एक दिवसीय ध्यान शिविर संपन्न हुआ। जिसमें 25 मित्रों ने हिस्सा लिया एवं ध्यान गंगा में डुबकी लगयी।

-स्वामी ध्यान कमल

बीकानेर, राजस्थान



ओशो ज्ञानतीर्थ आश्रम में 21 मार्च को 59वां संबोधि दिवस महोत्सव बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। उत्सव में ‘इवनिंग सत्संग विद द मास्टर’ के साथ ‘वर्तमान में जीना’ नामक विडियो क्लिप दिखाई गई। मा विजया भारती के संचालन में गीत-संगीत व नृत्य के साथ शिविर का समापन हुआ।

झंझरपुर, बिहार

ओशो संबोधि दिवस के अवसर पर ओशो आशियान ध्यान केंद्र में एक दिवसीय शिविर आयोजित किया गया। ध्यान में 50 मित्रों ने भाग लिया। स्वामी आनंद वैराग्य द्वितीय तथा स्वामी ज्ञान रिक्तम् के संचालन में 21 तारीख को सभी प्रेमियों ने मौलश्री वृक्ष के नीचे मोमबत्तियां जलाकर शिविर का समापन किया।

गया, बिहार

21 मार्च को ओशो संबोधि दिवस बोधि वृक्ष के तले मनाया गया। उपस्थित मित्रों ने बुद्ध की ऊर्जा में ध्यान व प्रवचन का आनंद लिया। संचालन स्वामी प्रेम पुजारी ने किया।

साहिबाबाद, गाजियाबाद



ओशो ध्यान केंद्र में विगत् 21 मार्च को ओशो संबोधि दिवस समारोह बड़े ही धूम-धाम के साथ संपन्न हुआ। दूर-दराज से आए अनेक नए मित्रों तथा बुद्धिजीवी वर्ग ने स्वयं का रूपांतरण एवं नयी सुवास व नये आलोक का अनुभव किया। महोत्सव का संचालन स्वामी ध्यान मुदितो ने किया।

लखनऊ, उत्तर प्रदेश



21 मार्च, ओशो संबोधि दिवस ध्यान, उत्सव व उमंग के साथ मनाया गया। कार्यक्रम में दैनिक ध्यान विधियों के साथ-साथ सांध्य सत्संग के प्रोग्राम भी हुए। उत्सवपूर्ण माहौल में 70 साधकों की उपस्थिति सराहनीय रही। 4 मित्रों ने नव-संन्यास दीक्षा ली। शिविर का भावपूर्ण संचालन स्वामी आत्मो निनाद ने किया।

-मज़हर खान

मेरठ, उत्तर प्रदेश

ओशो सद्धर्म ध्यान केंद्र में 21 मार्च ओशो संबोधि दिवस मनाया गया। शिविर में आए प्रेमियों ने ‘बहुतेरे हैं घाट’ व ‘प्रीतम छबि नैनन बसी’ प्रवचनों को सुना। साथ-ही-साथ अनापानसती योग’ ध्यान किया। सायंकालीन सभा में नृत्य-गीतों की धूम रही। ध्यान केंद्र में 40 साधकों ने भाग लिया। उत्सव का संचालन स्वामी आनंद अवनेश ने किया।

-मा शांति एकांत

विद्यानगर, जयपुर



22 मार्च को ओशो दीप ध्यान केंद्र में ध्यानोत्सव पर एक दिवसीय कार्यक्रम हुआ। ध्यान में कई दैनिक विधियां हुई। 40 मित्रों ने उत्सव में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। शिविर संचालन मा प्रेम ईशा व स्वामी आनंद शांतम ने किया।

बैनाड रोड, जयपुर

उत्सव बाग में 23 से 25 मार्च तीन दिवसीय ओशो ध्यान शिविर लगा। स्वामी आनंद विजय व मा जीवन दर्पण के संचालन में विविध ध्यान प्रयोग हुए। 60 साधकों ने बड़े उत्साह व उमंग के साथ शिविर में भाग लिया।

-स्वामी चैतन्य सत्यार्थी

मालवीय नगर, दिल्ली

ओशो भगवानश्री मेडिटेशन सेंटर में दिनांक 25 मार्च को एक दिवसीय ध्यान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का मुख्य बिंदु था ‘‘लाइफ एंड सस्टेट्स मैनेजमेंट’’। ध्यान शिविर का संचालन स्वामी आनंद अर्हत ने किया।

मोतिहारी, बिहार

ओशो प्रेम परिवार द्वारा 26 से 28 मार्च तीन दिवसीय ध्यान शिविर सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम के दौरान मा प्रेम संगीता एवं उनके ग्रुप ने मीरा नृत्य-नाटिका की अद्भुत प्रस्तुति दी। शिविर में ग्रामीण क्षेत्रों के ओशो प्रेमियों के साथ-साथ कई गणमान्य व्यक्तियों का भी आगमन हुआ। ध्यान का सहज-सरल संचालन मा ध्यान तन्मया ने किया जिसमें 85 मित्रों ने भाग लिया तथा 19 मित्र नव-संन्यास में दीक्षित हुए।

-क्रांति अजय

भटिंडा, पंजाब



ओशो प्रेम ध्यान मंदिर में गत् 1 अप्रैल को एक दिवसीय ध्यान शिविर लगा। कार्यक्रम में 70 प्रेमियों ने हिस्सा लिया। मा योग शुक्ला ने शिविर का संचालन किया। इसके एक दिवस पूर्व 31 मार्च को होटल सम्राट में ओशो फिल्मोत्सव आयोजित की गई। तीन घंटे की इस फिल्म को कई मित्रों ने देखा और सराहा।

बैंगलुरु, कनार्टक



2 से 4 अप्रैल, एक तीन दिवसीय मेडिटेशन रिट्रीट का सफल आयोजन हुआ फायर फ्लाइस रिज़ार्ट में। यह कार्यक्रम लाफ, डांस, सेलिब्रेट तथा मेडिटेट पर आधारित रहा। ध्यान-ग्रुप का संचालन स्वामी सत्य वेदांत के सान्निध्य में संपन्न हुआ।

काठमाण्डू, नेपाल



11 से 17 मार्च ओशो तपोवन में सात दिवसीय ध्यान शिविर आयोजित किया गया। शिविर में भारत के साथ-साथ अनेक देशों के 150 सहभागियों का आगमन हुआ। सभी ने ध्यान में खूब गहरी डुबकी लगाई। साथ-ही 22 मित्रों ने नव-संन्यास ग्रहण किया।
13 मार्च, नेपाल की संसद के अध्यक्ष श्री सुवास चंद्र का ओशो तपोवन में आगमन हुआ। उन्होंने दिनभर रहकर यहां की गतिविधियों को खूब पसंद किया।
21 मार्च, ओशो का संबोधि दिवश भव्य रूप से मनाया गया। पूरे दिन आगन्तुक ध्यान और नृत्य-कीर्तन में मस्त रहे। संध्या बेला 9 मित्रों ने संन्यास दीक्षा में प्रवेश पाया। तपोवन में शिविरों का संचालन स्वामी आनंद अरुण ने किया।

अमेरिका



केलीफोर्निया से मेक्सिको तक भव्य क्रूज़ पर एक अविश्मरणीय सात दिवसीय ध्यान शिविर 25 मार्च से 1 अप्रैल तक लगा। ज़ोरबा दि बुद्धा स्टाइल में उत्तम सुविधा के साथ मित्रों ने गहन ध्यान की अनुभूति की। साथ-ही शेयरिंग सेशन में स्वामी आनंद अरुण ने कई मित्रों को उनके प्रश्नों के समाधान बताए। क्रूज़ कैंप के एक दिन पूर्व 24 मार्च को सेंटियागो में एक दिवसीय सत्संग हुआ। जिसमें 10 मित्रों ने नव-संन्यास लिया।

ट्यूमेन, रूस



29 से 31 मार्च, स्वामी आनंद अर्हत के संचालन में त्रि-दिवसीय शिविर लगा। ध्यान में 35 मित्रों ने भाग लिया एवं 8 साधक नव-संन्यास में दीक्षित हुए।