Osho World Online Hindi Magazine :: September 2012
www.oshoworld.com
 
  टैरो
 
 

नवंबर 2012 - मा दिव्यम नदीशा

‘‘मन अतीत को ही दोहराना चाहता है भविष्य में-सुंदरतम रूप में; अतीत को ही सजाना चाहता है भविष्य में। भविष्य अतीत का ही विस्तार है। और आश्चर्य यही कि मन उस अतीत में जीता है जो अब नहीं है और उस भविष्य में जो अभी नहीं है। मन इन दो अभावों में जीता है, दो शून्यताओं में। है।’’

-ओशो
उत्सव आमार जाति आनंद आमार गोत्र

मेष: मार्च 21 - अप्रैल 20

आपके लिये विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण निर्णय लेने का समय है। ऐसे में आपको अपने विवेक अनुसार, सोच-समझकर निर्णय लेने पड़ेंगे। कोई भी निर्णय लेने में जल्दबाज़ी न करें, अच्छे से चिंतन-मनन करके ही आगे बढ़ें। साथ-ही आपको अपने अध्यात्मिक विकास की ओर भी ध्यान देना होगा। इसके लिये ज़रूरत है कि आप अपनी जीवनशैली में कुछ परिवर्तन लायें। आपको चाहिये कि आप अपनी दिनचर्या को पुनः इस आधार पर निर्मित करें कि आप प्रतिदिन कुछ समय अपनी अंतर्यात्रा के लिये निकाल पायें। प्रतिदिन ध्यान में उतरने के लिये एक समय निर्धारित कर लें और कोशिश करें कि किसी भी कारणवश इससे चूके नहीं।

वृषभ: अप्रैल 21-मई 21

इस महीने आप स्वयं को अनेक कार्यों में व्यस्त पायेंगे। कुछ पहले से चले आ रहे पुराने कार्य सुचारू रूप से चल सकें इसलिये आपका ध्यान अपनी ओर खींच रहे हैं। और कुछ नये कार्य आपका ध्यान इसलिये मांग रहे हैं क्योंकि वे अभी अस्थायी हैं और उन्हें आपके द्वारा सींचे जाने की आवश्यकता है। आपसे जुड़े लोग आपके अनुभव को ध्यान में रखकर आपसे सहायता की अपेक्षा रख सकते हैं। ऐसे समय में जहां हर तरफ से आपका समय एवं ध्यान खींचा जाये, वहां आपको चाहिये कि आप बिना तनाव लिये हर कार्य के साथ पूरा न्याय करने का प्रयास करें। साथ ही आपको अपनी आंतरिक यात्रा के लिये भी समय देना चाहिये।

मिथुन: मई 22-जून 21

अत्यंत ही शुभ समय है आपके लिये, जहां अपने हर कार्य में पूर्णतया संलग्न होकर आपको विशेष अनुभव प्राप्त हो सकते हैं। कोई भी कार्य करते समय आप भूल जायें कि आप कर्ता हैं। आपके भीतर दो का भेद-कर्ता और कार्य का भेद मिट जाना चाहिये। आप इतनी गहनता से हर कार्य करें कि आप महसूस करने लगें कि आप हैं ही नहीं। आपमें अपनी सम्पूर्ण जीवनशैली को ध्यानमय बनाने की शक्ति है। और इसके शुभारंभ के लिये यह समय बिल्कुल उपयुक्त है। अपनी अंतरतम की गहराइयों को छूने के लिये स्वयं को तैयार करें। हर कार्य में पूर्ण रूप से सम्मिलित हो और अपने जीवन को अद्भुत अध्यात्मिक आयाम प्रदान करें। अपनी रुचि अनुसार कोई ध्यान प्रतिदिन सुबह उठते ही अथवा सोने से पूर्व करें।

कर्क: जून 22-जुलाई 22

आप अत्यंत ही भावुक स्वभाव के व्यक्ति हैं। अपने परिवार में आपने हमेशा प्रेम और सौहार्द की भावना बनानी चाही है। परंतु इस समय अपने प्रियजनों से की गई कोई भी अपेक्षा आपको निराश कर सकती है। आप सदा दूसरों का भला चाहते आये हैं, यही कारण है कि आप कई बार चाहते हैं कि आपके प्रियजन आपके द्वारा दी गई सलाह के अनुसार कार्य करें। परंतु साथ ही इस बात को समझें कि आपका कार्य केवल सलाह देने तक ही सीमित है। आप दूसरों को अपनी बात पर अमल करने को मजबूर नही कर सकते हैं। आपके द्वारा दी गई सलाह को मानने या न मानने की हर व्यक्ति की अपनी स्वतंत्रता है। इसीलिये आपको चाहिये कि आप किसी भी प्रकार की अपेक्षा से अपने आप को ऊपर रखें। ध्यान में विलीन होने के लिये अच्छा समय है।

सिंह: जुलाई 23-अगस्त 23

आपके कार्यक्षेत्र में आपकी सफलता इस बात पर निर्भर करेगी कि आपको स्वयं पर कितना भरोसा है। आप इस समय अपने आप को जितना काबिल और सक्षम समझेंगे, उतने ही उन्नति के पथ पर अग्रसर होते चले जायेंगे। किसी भी तरह की हीन-भावना से ग्रसित होना आपके कार्य में बाधक सिद्ध हो सकता है। अपने निजी-संबंधों में आप मज़बूती और लगाव महसूस करेंगे। अपने निकटतम लोगों से आपको आगे बढ़ने की प्रेरणा और साहस मिलेगा। अपने कार्यक्षेत्र में प्रगति का सकारात्मक प्रभाव आपके निजी संबंधों पर पड़ेगा। कुल मिलाकर परिवार और कार्यक्षेत्र में विकास के लिये अच्छा समय है।

कन्या: अगस्त 24-सितम्बर 23

आप इस महीने अपने वातावरण को अपने अनुकूल महसूस करेंगे। अपने मन में भी शांति अनुभव करेंगे। ऐसे माहौल में आप बड़ी आसानी से अपनी ऊर्जा को किसी भी सृजनात्मक कार्य में केंद्रित कर सकेंगे। चित्रकारी, काव्य, संगीत, नृत्य या अन्य किसी भी कला के माध्यम से आप स्वयं को और आनंदित एवं तृप्त महसूस कर सकेंगे। आपके लिये अपनी अंतरतम की गहराई में उतरने के लिये यह अत्यंत ही शुभ अवसर है। अपने परिवार एवं कार्यक्षेत्र में आपको नये लोगों से जुड़ने का मौका मिल सकता है। इन अवसरों का प्रयोग अपने आपको और बाह्यमुखी बनाने एवं अपने आत्मविकास के लिये करें।

तुला: सितम्बर 24-अक्टूबर 23

परमात्मा आपको लगातार जीवन के हर रूप में उसे देखने का अवसर, उपहार स्वरूप दे रहा है। इस उपहार में जीवन की गहराइयों को भी देखने का अवसर प्रदान कर रहा है। और इस उपहार को स्वीकारते ही आप पायेंगे कि जीवन जीने के दो रूप हैं, जो कि सिक्के के दो पहलुओं के समान सदा एक साथ रहते हैं। जिस प्रकार गुलाब का सौंदर्य कांटों बिना अधूरा है। उसी प्रकार आपको इस समय महसूस होगा कि जीवन में जितनी रोशनी और सरल मार्गों की आवश्यकता है, उतनी ही आवश्यकता मुश्किलों और कठिनाइयों की भी है। और जब आप जीवन के इन विविध रूपों को स्वीकार कर लेंगे, आप स्वयं को पहले से अधिक सम्पूर्ण एवं समग्र महसूस करेंगे। प्रतिदिन जीवन में आ रही चोटियों एवं घाटियों का प्रेमपूर्ण स्वागत करें। मौन ध्यान में डूबें।

वृश्चिक: अक्टूबर 24-नवंबर 22

आप इस समय बहुत प्रेमपूर्ण महसूस करेंगे। और इसके पीछे कोई विशेष कारण हो ऐसा ज़रूरी नहीं है। आप अपने अंदर से आनंद महसूस करेंगे। ऐसे समय में आपको चाहिये कि आप उन लोगों के साथ ज़्यादा समय व्यतीत करें जो आपके आनंद में शामिल हो सकें। ऐसी संगत में रहने की कोशिश करें जहां आपकी खुशी, आपके भीतर का रस दोगुना-चैगुना होकर आपस में बांटी जा सके। ऐसे समय में ध्यान के लिये समय निकालकर उसमें गहरे जाना आपके आत्मविकास के लिये बहुत हितकर रहेगा। साथ ही कला से जुड़े क्षेत्र जैसे संगीत, नृत्य आदि में आप विशेष रूचि महसूस करेंगे।

धनु: नवंबर 23-दिसंबर 23

इस महीने आप विरोधाभासी परिस्थिति में स्वयं को पा सकते हैं। ऐसा इसलिये सम्भव है क्योंकि आपका हृदय एवं आपका मस्तिष्क आपको विपरीत दिशाओं में ले जाना चाहेंगे। और इस वजह से आप स्वयं को किसी भी प्रकार का निर्णय लेने में असक्षम महसूस कर सकते हैं। ऐसी परिस्थितियों में आपको चाहिये कि आप दोनों पर ही कुछ समय के लिये ध्यान न दें। ऐसे संकट के समय में ध्यान की सहायता लेना बेहतर रहेगा। ध्यान में गहरे जाने का प्रयास करें और जितना हो सके मौन में डूबें। इससे आपके मस्तिष्क एवं हृदय, दोनों में संतुलन आयेगा। ध्यान करने से आपमें होश का जन्म होगा जिससे आपका हर निर्णय आपके लिये सुंदर परिणाम लायेगा।

मकर: दिसंबर 24-जनवरी 20

आपका व्यक्तित्व अत्यंत ही प्रभावशाली है। आप अपनी बुद्धिमानी का प्रयोग करके अक्सर ही अन्य लोगों को अपनी बातों से मोह लेते हैं। परंतु इस समय देखें कि अपने चंचल स्वभाव के कारण आप अधैर्यवान न हो जायें। ऐसा होने से हाथ में लिया गया कार्य आपके लिये पूरा करना मुश्किल हो जायेगा और आप जल्दी से किसी दूसरे कार्य की ओर आकर्षित हो जायेंगे। अपने स्वभाव के इसी पहलू पर आपको नियंत्रण रखने की आवश्यकता है। यही चंचलता आपको ध्यान करते समय भी गहराई अनुभव करने में बाधित कर सकती है। यदि आप एक ही बात पर जमे रहने में अपनी इच्छाशक्ति का उपयोग करेंगे तो जो भी कार्य करेंगे उसमें शानदार सफलता प्राप्त करेंगे। नटराज ध्यान में डूबें।

कुंभ: जनवरी 21-फरवरी 19

आप अपने को इस समय जटिल परिस्थितियों में पा सकते हैं। और आप ऐसा अनेक बार महसूस करेंगे कि आप कहना और करना कुछ और चाहते थे और वास्तव में हो कुछ और गया है। ऐसी परिस्थिति में घबराएं नहीं और साहस से काम लें। हर हालत में अपना आत्म-संयम बनाकर रखें। प्रयास करें कि जल्दी से अपना आपा न खोयें। क्रोधित होने से बनती बात भी आपके लिये प्रतिकूल परिणाम ला सकती है। परिवार में किसी भी अहम निर्णय में सभी परिजनों को साथ लेकर चलें। प्रकृति के निकटतम रहने का प्रयास करें। विपस्सना ध्यान में डूबना आपके लिये इस समय अनुकूल रहेगा।

मीन: फरवरी 20-मार्च 20

अपने हृदय में इस समय झांककर देखेंगे तो आपको ऐसा महसूस होगा कि आप पहले से थोड़े सख्त या कठोर हो गये हैं। इसका प्रभाव आपके निजी-संबंधों पर भी पड़ सकता है। आपको अपने वातावरण के प्रति पहले से अधिक संवेदनशील होने की आवश्यकता है। प्रतिदिन 15 मिनट एकांत में बैठें और अपने आस-पास हो रही हर छोटी-बड़ी घटना के प्रति जागरूक रहने का प्रयास करें। इससे जो आपके भीतर संवेदनशीलता खो गई है वह धीरे-धीरे पुनः लौट आयेगी। जैसे-जैसे आपका हृदय पहले से अधिक तरल होगा, वैसे-वैसे आपके संबंधों में भी मज़बूती आयेगी। ध्यान में उतरने से आपको स्वयं को अभिव्यक्त करने में सरलता महसूस होगी।