Osho World Online Hindi Magazine :: September 2012
www.oshoworld.com
 
टैरो
सितम्बर 2012 - मा दिव्यम नदीशा
 

"मैं तुम्हें आचरण नहीं देता, क्योंकि सब दिए गए आचरण बंधन बन जाते हैं। मैं तुम्हें अनुशासन नहीं देता, क्योंकि सब दिए गए अनुशासन, सदियों-सदियों में, कैदी पैदा किए है; मनुष्य को मार डाला है। मैं तुम्हें स्वतंत्रता देता हूं; मैं तुम्हें सत्संग देता हूं, बस। मैं तुम्हें अपने साथ होने का आमंत्रण देता हूं, बस। मेरे साथ। मेरे साथ डोलो। मेरी आंखों में झाकों। मेरे सामीप्य में डूबो। मुझे पीयो। और तुम्हारी स्वतंत्रता अछूती रहे-अस्पर्शित। मै तुम्हें कोई शैली कभी न दूं। तुम्हारी जीवन-शैली तुम्हारी ही चेतना से जन्में; और तुम्हारा आचरण तुम्हारे अतःकरण से प्रकट हो। तुम्हारा बोध ही तुम्हारे जीवन में दिशा-सूचक बने, मैं तुम्हें कोई दिशा न दूं। तो ही यह क्षेत्र बुद्ध-क्षेत्र होगा। अन्यथा यह भी एक नया कारागृह होगा।"

-ओशो
मृत्योर्मा अमृतं गमय

मेष: मार्च 21 - अप्रैल 20

आप इस समय अपने अंदर धैर्य का अभाव महसूस कर सकते हैं। साथ ही यह भी मुमकिन है कि ज़रा सा भड़काने पर आप आपे से बाहर हो जायें। अतः स्वयं पर थोड़ा संयम बरतना होगा। अपने स्वभाव में धैर्य की मात्रा को बढ़ायें। स्वभाव में किसी भी तरह का अड़ियलपन आपके लिये हितकारी नहीं है। किसी बात पर हठ करना आपकी छवि पर बुरा प्रभाव डाल सकता है। इसलिये अपने व्यवहार को और लचीला बनाने का प्रयास करें। आर्थिक दृष्टिकोण से समय अनुकूल है और किसी काम को बड़े पैमाने पर यदि करना चाह रहे हों, तो यह उचित समय है।

वृषभ: अप्रैल 21 - मई 21

आपने यह उदाहरण अवश्य सुना होगा कि सतत बहती पानी की धार में पत्थर को तोड़ने की ताकत होती है। इस उदाहरण में सबसे खास बात है पानी का सतत लगातार एक ही जगह पर चोट करते रहना। ऐसा ही कुछ इस बार आपको भी करना है। ध्यान की जिन गहराइयों के बारे में आप सुनते आये हैं, उन्हें स्वयं महसूस करने हेतु आपको अपने भीतर बार-बार डुबकी लगानी होगी। जब भी समय मिले, इस ओर अपनी कोशिश जारी रखनी होगी। और यही तरीका आपके बाह्य जगत में भी आपको अमल करना है। आप अपने कार्यक्षेत्र में जिस ओर भी प्रगति करना चाहते हैं, उस ओर अपना प्रयत्न, अपनी कोशिश करते रहें। जितना मज़बूत आपका प्रयास रहेगा, उतना ही ठोस परिणाम आपके हाथ लगेगा। अपने निजी संबंधों में आप इस समय संतुलन महसूस करेंगे और हार्दिक रूप से लगाव महसूस करेंगे।

मिथुन: मई 22 - जून 21

आप इस समय अपने जीवन से कुछ नयेपन की अपेक्षा कर रहे हैं। इसीलिये आप किसी यात्रा अथवा स्थान-परिवर्तन की ओर रुचि दिखायेंगे और इस ओर कोई भावी योजना बना सकते हैं। आपको ऐसे भी यात्रा करना पसंद है और आप इस बार यात्रा का कोई विशेष कारण भी ढूंढ़ लेंगे। यात्रा के अतिरिक्त आप अपने घर में या कार्यक्षेत्र में बदलाव चाहेंगे। बदलाव का कोई भी तरीका आपके मन को रोमांच और ताज़गी से भर देगा और आप स्वयं को ऊर्जा से पूर्ण पायेंगे। इस बदलाव के बाद आप अपने जीवन के वही पुराने कामों को करते समय भी एक नई उमंग, एक ताज़गी महसूस करेंगे। इस समय परिवर्तन के जो भी संकेत हैं, वह आपके हित में हैं।

कर्क: जून 22 - जुलाई 22

आप स्वभाव से अत्यंत ही भावुक और संवेदनशील हैं। यही कारण है कि आप जो भी करते हैं, उससे पूरी तरह जुड़ जाते हैं। और यही वजह है कि आप बहुत जल्द अपने को सुखी या दुखी कर लेते हैं। इस समय अपने काम से अपने को इतना मत जोड़ें। जो भी करें, उसके प्रति जागरूक रहें और साक्षीभाव बनाये रखें। आपके लिये भावनात्मक स्तर पर मध्य में रहना ज़रूरी है। किसी भी कार्य से अत्यधिक जुड़ने के बजाय, आपको निर्लिप्त रहकर काम करने चाहिये। इससे आप सुख-दुख के आवागमन को दूर से देख पायेंगे। इस समय प्रकृति पर सब-कुछ छोड़ देने से आप निर्भार महसूस करेंगे और भीतर से हल्कापन महसूस करेंगे।

सिंह: जुलाई 23 - अगस्त 23

आपके पास किसी भी काम को करने के लिये दो तरीके उपलब्ध होंगे - एक तरीका जहां बिना कुछ ज़्यादा समझे बस आपको श्रम अधिक करना पड़े और दूसरा तरीका जहां अगर आप समझदारी से काम लें, तो सही वक्त टटोल कर, बिना ज़्यादा श्रम के अपना काम बना सकेंगे। इस उदाहरण से प्रेरणा लें कि नाव आगे बढ़ाने के दो उपाय हैं - एक तरीका जहां नदी से लड़कर पतवार चलानी पड़े तो उससे थकान आयेगी। और वहीं दूसरा तरीका है प्रतीक्षा करने का और जब हवा बहने लगे तब नाव भी उसी रुख में बहने देना - इसमें कोई मेहनत नहीं, केवल समझदारी का प्रयोग है। इसलिये ज़रूरी है किसी भी चीज़ को करने के लिये आप सही समय का इंतज़ार करें। ठीक वक्त पर चलाये गये तीर से ही निशाना सही लगता है और उसका प्रभाव प्रबल होता है।

कन्या: अगस्त 24 - सितम्बर 23

आप इन दिनों अत्यंत ही प्रसन्नचित्त रहेंगे और एक खुशी अपने भीतर महसूस कर पायेंगे। आपकी खुशी के पीछे कोई कारण हो, यह आवश्यक नहीं। अनायास ही आप भीतर से बहुत अच्छा और सकारात्मक महसूस करेंगे। यह अत्यंत ही सुंदर है और इस भावना को अपने अंदर मज़बूत होने दें। आपके लिये यह प्रेम और खुशियां बांटने का समय है। इस बांटने में ज़रा भी कंजूसी न दिखायें। यह देखें कि आपके ही मन से उपजी कोई भी छोटी-मोटी बात आपकी खुशी में खलल न डाले। अपने भीतर की प्रफुल्लता को बनाये रखें और इसी मनोदशा के साथ अपने ध्यान-प्रयोग भी करते रहें। ध्यान में गहरे जाने के लिये ऐसी मनोदशा अत्यंत ही शुभ है।

तुला: सितम्बर 24 - अक्टूबर 23

आप अपने जीवन में तेज़ी से विकास चाहते हैं। यह विकास आप जीवन से जुड़े हर पहलु में चाहते हैं - फिर चाहे वह आपकी आर्थिक दशा हो या आपके निजी संबंध हों। अपने जीवन के स्तर को ऊंचा उठाने के लिये किया गया प्रयास अच्छी बात है। पर ज़रूरी है कि आप इन प्रयासों को सिर्फ मन में न रखें, सिर्फ इन पर विचार न करें, वरन् इन्हें वास्तविक रूप में अमल करें। आपको चाहिये कि आप अपने जीवन में जिस भी रूप में विकास चाहते हैं, उस ओर जल्द से जल्द कदम उठायें। साथ ही अपनी आध्यात्म की यात्रा में भी यही चीज़ लागू करें। जब भी मौका लगे, ध्यान में डूबें और अपने जीवन को उत्सव में संलग्न कर दें।

वृश्चिक: अक्टूबर 24 - नवंबर 22

आपके मन की गतिविधियां समुद्र की लहरों की भांति है। उसकी गति में प्रतिपल बदलाव है, एक अस्थिरता है। कभी आपका मन अचानक ही आवेग से भर जाता है, कभी एकदम ही शांत हो जाता है। कभी आप अत्यंत संवेदनशील हो जाते हैं, तो कभी ठीक उसके विपरीत बहुत कठोर हो जाते है। मन की यह अवस्था आपको परिस्थितियों में भी अति की ओर ले जा सकती है। अतः इसके प्रति सचेत रहें। ओशो भी कहते हैं - "अति से जो बच गया वही समझदार है।" परंतु इसे बुरा, या मन की कमज़ोरी न समझें।" बल्कि यही समय है जब आप अपने मन की चाल को होशपूर्वक देखें और उसे समझने का प्रयास करें।

धनु: नवंबर 23 - दिसंबर 23

आप इस समय अपने वातावरण के प्रति पहले से अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। आप हर क्रिया की प्रतिक्रिया देना चाहेंगे और आपकी यह कोशिश रहेगी कि आपसे जुड़े लोग आपको अच्छे से सुनें और समझें। दूसरों के विचारों, उनकी सोच को समझना ज़रूरी है, परंतु उन पर ज़रूरत से ज़्यादा ध्यान देना आपको स्वयं अपनी सच्चाई से दूर ले जा सकता है। अपने मन को, हृदय को इस समय जितना सरल रखेंगे, उतना ही आप किसी भी घटना से कम विचलित होंगे। इस सरलता को अपने व्यवहार में भी आने दें। इस समय विपस्सना ध्यान में आपको उतरना चाहिये।

मकर: दिसंबर 24 - जनवरी 20

आप इस समय अपने कार्यक्षेत्र में विकास के नये अवसर तलाश रहे हैं और अपने व्यवसाय की जड़ों को और मज़बूत करना चाह रहे हैं। इस ओर किया गया हर काम आप अत्यंत सुचारू और संतुलित तरीके से कर पायेंगे। दूसरे लोगों पर आपका प्रभाव इस समय गहरा और आकर्षक होगा। आप अपनी बात मनवाने के लिये दूसरों को बड़ी आसानी से राज़ी कर पायेंगे। इस समय, साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि कोई भी काम साझेदारी में करने के बजाय, स्वयं आत्मनिर्भर होकर यदि करेंगे, तो आपके लिये ज़्यादा हितकर रहेगा। पारिवारिक दृष्टिकोण से भी समय अत्यंत सुंदर है। परिवार के लोग आपको सुनना पसंद करेंगे और आपके साथ ज़्यादा समय व्यतीत करना चाहेंगे। उनके साथ बीत रहे अपने हर पल का पूरा आनंद लें और अपने आपसी संबंध और मधुर बनायें।

कुंभ: जनवरी 21 - फरवरी 19

इस समय आप अपने कार्यक्षेत्र में निर्धारित लक्ष्यों को सही समय पर और सुनियोजित तरीके से पूरा कर पायेंगे। इन्हें प्राप्त करने में आपको आपके सहकर्मियों का पूरा सहयोग मिलेगा। घर में भी वातावरण सुंदर और शांत बना रहेगा। किसी भी तरह का निर्णय लेने से पहले बड़ों से सलाह, विचार-विमर्श करना इस समय आपके लिये उचित रहेगा। उनके अनुभवों से आपको बहुत-कुछ सीखने को मिलेगा और उनके ज्ञान का सहारा लेकर आप ज़्यादा सरलता से अपना मार्ग खोज पायेंगे। अपने हुनर का सही तरह से उपयोग करके आपको स्वयं अपनी नज़रों में नया स्थान मिलेगा और आप स्वयं से बहुत संतुष्ट महसूस करेंगे।

मीन: फरवरी 20 - मार्च 20

आपमें एक खूबी है, और वह यह है कि आप जिस ओर अपना ध्यान केंद्रित करके जीने लगते हैं - वही धीरे-धीरे आपकी वास्तविकता बन जाती है। आपकी संकल्पशक्ति इतनी प्रबल है कि आप अपने लिये जो सपने देखते हैं, उन्हें आप हकीकत में बदलने की क्षमता रखते हैं। समय आपके लिये अत्यंत ही अनुकूल है। अपनी क्षमता को ध्यान में रखकर, अपने हेतु कोई भी मार्ग चुनें। इस समय जहां अपना पूरा ध्यान लगायेंगे, वह यथार्थ बन सकता है। अपनी अंतर-आवाज़ के प्रति सजग रहें, आपको यहां से संकेत मिल सकते हैं। ध्यान में गहरे जायें। साथ ही अपने अंदर छिपी क्षमताओं का सही आंकलन करने में जुट जायें।